चीन के ही हाथों होगा कोरोना का खात्मा ? अगले साल नहीं रहेगा वायरस का नामोनिशान

बीजिंग : कोरोना वायरस महामारी के बीच एक अच्छी खबर आई है। दवा बनाने वाली कंपनी सिनोवैक बायोटेक ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना वायरस से लड़ने वाला टीका तैयार कर लिया है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, एसएएसएसी ने चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीचैट पर ये जानकारी दी है।

वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स और बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स और बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स ने इस वैक्सीन को तैयार किया है। इस टीके का कोरोना वायरस पर 99 फीसदी कारगर साबित हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार, वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स और बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स ने इस वैक्सीन को तैयार किया है। ट्रायल के दौरान लगभग 1500 लोगों को ये दवा दी गई।

सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ युवराज सिंह माफी मांगो, आखिर युवराज ने ऐसा क्या किया?

साल के अंत तक आ सकती है वैक्सीन
एसएएसएसी ने कहा है कि इस साल के आखिर तक या फिर अगले साल के शुरू में ये वैक्सीन मार्केट में उपलब्ध हो सकती है। ये दवा क्लिनिकल ट्रायल के दूसरे फेज में पहुंच चुकी। वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स और बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोलॉजिकल प्रोडक्ट्स, दोनों ही संस्थान सरकार के फार्मासूटिकल समूह सिनोफार्म से एफिलिएटेड हैं। सिनोफार्म के मैनेजमेंट की निगरानी एसएएसएसी करता है।

निर्जला एकादशी पर पूजा के बाद सुनें ये व्रत कथा, इस दिन क्या करें

कोरोनावेक रखा है वैक्सीन का नाम
एकेडमिक जर्नल साइंस में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, कंपनी ने इस दवा “कोरोनावेक” रखा है। बंदरो पर किए गए  ट्रायल में पाया गया है कि यह बंदर को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखती है। रिसर्चर का कहना है कि अगले दौर के ट्रायल के लिए चीन में कोविड-19 के मरीजों की संख्या का कम होना सबसे बड़ी समस्या है।

बीजिंग में लगेगा वैक्सीन प्लांट
कंपनी बीजिंग में एक प्लांट लगा रही है। इस प्लांट में करीब 10 करोड़ से ज्यादा दावा की डोज तैयार होगी। सबसे अधिक गंभीर वाले मरीजों पर इसका प्रयोग होगा। इसे हेल्थ वर्कर्स और ज्यादा उम्र वाले लोगों पर इस्तेमाल किया जाएगा।

MUST READ:  हर 10 लाख की आबादी पर चार लोगों की कोरोना से मौत, यहां मिले सबसे ज्यादा मरीज