Mahakal: महाशिवरात्रि पर महाकाल के दर्शन करने जाने वाले हैं, तो पहले पढ़ लें ये खबर

Mahakal Mahashivratri Mahakal Darshan: उज्जैन। महाशिवरात्रि पर बाबा महाकाल के दर्शन के लिए उज्जैन जा रहे भक्तों को मंदिर में प्रवेश मंगलवार तड़के 5:30 बजे से दिया जाएगा, जो अगले दिन बुधवार की रात 11 बजे तक जारी रहेगा। दर्शन व्यवस्था ऐसी की गई है कि लाइन में लगने के 45 मिनट में बाबा महाकाल के दर्शन हो सकेंगे।

यहां सुरक्षा व्यवस्था के लिए 1200 पुलिस अधिकारी और जवान तैनात किए गए हैं। उज्जैन शहर में अलग-अलग दिशा से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए वाहन पार्किंग व्यवस्था पर अलग-अलग स्थानों पर की गई है।

यहां रहेगी पार्किंग

इंदौर, देवास, मक्सी, आगर रोड की ओर से आने वाले वाहनों को हरिफाटक चौराहे पर मन्नत गार्डन, जंतर-मंतर, लालपुल चौराहा, नृसिंह घाट रोड तथा कर्कराज मंदिर के समीप पार्क किए जाएंगे।

– बड़नगर, नागदा की ओर से आने वाले वाहनों को कार्तिक मेला ग्राउंड पर पार्क किए जाएंगे। जहां से श्रद्धालु पैदल चलकर नृसिंह घाट ब्रिज होते हुए ई रिक्शा के माध्यम से महाकाल मंदिर पहुंचेंगे।पुजारी, प्रशासनिक अधिकारी, ड्यूटी करने वाले कर्मचारी व मीडियाकर्मी अपने वाहन गुदरी चौराहा से चौबीस खंभा की ओर से दानीगेट, रामानुज कोट, हरसिद्धि की पाल पार्किंग में रखेंगे। वहां से पैदल बड़ा गणेश मंदिर के समीप से महाकाल मंदिर पहुंचेंगे।

– वीआइपी लोगों के वाहन हरिफाटक पुल से इंटरप्रीटिशन तिराहे होते हुए महाकाल( Mahakal) वन की दीवार से भारत माता मंदिर के समीप महाकाल चौकी के पास वाहन पार्क करेंगे।1200 पुलिस अधिकारी और जवान सुरक्षा में तैनात

महाशिवरात्रि पर्व पर (Mahakal)महाकाल मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता कर दी गई है। मंदिर परिसर और आसपास के स्थानों की सुरक्षा के लिए 1200 पुलिस अधिकारियों व जवानों को तैनात किया गया है। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जाएगी। आसपास के शहरों से आने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों की पार्किंग के लिए अलग-अलग स्थान तय किए गए है।

एसपी सत्येंद्र शुक्ला के अनुसार मंदिर व आसपास के क्षेत्र की सुरक्षा के लिए चार एएसपी स्तर के अधिकारी लगाए गए हैं। इसके अलावा 25 डीएसपी, 40 थाना प्रभारी, 70 एसआइ, 75 एएसआइ की ड्यूटी निर्धारित की गई है। प्रधान आरक्षक, आरक्षक, महिला पुलिस की संख्या एक हजार है।

इसके अलावा होमगार्ड व निजी स्वंयसेवी संस्थाओं की भी मदद ली जा रही है। इन मार्गों की खास निगरानी महाकाल मंदिर परिसर में लगे मंदिर समिति के कैमरों के अलावा पुलिस द्वारा महाकाल से हरसिद्धि मार्ग, नृसिंह घाट, चारधाम मंदिर, त्रिवेणी संग्रहालय तथा हरसिद्धि की पाल पर भी सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं।

इनसे कंट्रोल रूम से नजर रखी जाएगी। इसके अलावा स्मार्ट सिटी के तहत लगाए गए कैमरों के माध्यम से भी पुलिस कंट्रोल रूम से भीड़ व वाहनों की पार्किंग व्यवस्था पर नजर रहेगी।

रविवार को 30 हजार से अधिक भक्तों ने किए दर्शन

ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में महाशिवरात्रि से पहले ही रविवार को आस्था का सैलाब उमड़ा। देशभर से आए 30 हजार से अधिक भक्तों ने भगवान महाकाल के दर्शन किए। सुबह 6 बजे से शुरू हुआ दर्शन का सिलसिला रात 10.30 बजे शयन आरती तक जारी रहा। कोरोना प्रतिबंध समाप्त होने के बाद देशभर से श्रद्धालु भगवान महाकाल के दर्शन को उज्जैन पहुंचने लगे हैं।

500 मीटर की परिधि में ड्रोन कैमरे पर प्रतिबंध

Mahakal : महाकाल मंदिर के आसपास 500 मीटर की परिधि में ड्रोन कैमरों के उड़ाने पर रविवार को एडीएम संतोष टैगोर ने प्रतिबंध लगा दिया। बगैर अनुमति ड्रोन उडाने पर केस दर्ज किया जाएगा। एडीएम टैगोर ने बताया कि मंदिर की सुरक्षा को देखते हुए आसपास के 500 मीटर क्षेत्र में ड्रोन उड़ाने के लिए प्रतिबंध लगाया गया है। ड्रोन कैमरे के संचालन के लिए पहले सीएसपी से अभिमत लेने के बाद एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला अनुमति देंगे। आदेश का उल्लंघन करने पर धारा 188 के तहत केस दर्ज किया जाएगा।

यह भी पढ़े:  Mahindra Scorpio:महिंद्रा स्कॉर्पियो नए लुक और नए नाम के साथ इसतारीख को होगी लॉन्च