कोरोनाकाल में असहाय लोगों का सहारा बनकर सामने आया जैन समाज: आकाश सिंह राजपूत

-कोरोना काल में मानव सेवा का पर्याय बना जैन समाज

Helpless

भोपाल। भारत के इतिहास में जैन समाज का योगदान जग जाहिर है। यह वह समाज है जिसने अहिंसा परमो धर्मा का पाठ विश्व को पढ़ाया, एक साथ शेर तथा गाय को पानी पिलाया। जैन समाज का गौरवपूर्ण इतिहास मानव सेवा तथा रक्षा का रहा है।

भगवान महावीर स्वामी ने अपना राजपाट छोड़कर मानव समाज के उत्थान के लिए वैराग्य धारण किया तो वही आचार्य विद्यासागर जी महाराज ने लोगों को जनसेवा, जीव रक्षा का पाठ पढ़ाया। मानव सेवा तथा रक्षा के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले ऐसे जैन समाज के सभी बंधुओं को मैं नमन करता हूं।

कोरोनाकाल में असहाय Helpless लोगों का सहारा बनकर सामने आया है जैन समाज। यह बात राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के सुपुत्र आकाश सिंह राजपूत ने बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज सागर पहुंच कर जैन समाज द्वारा किए जा रहे भोजन वितरण के अवसर पर कहीं। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण की चलते बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में सैकड़ों लोग आ रहे हैं। इनमें से कई लोग ऐसे असहाय Helpless  होते हैं जिनकी भोजन की व्यवस्था नहीं होती।

इस तरह के असहाय जरूरतमंद लोगों के लिए जैन समाज द्वारा बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में पिछले 40 दिनों से निःशुल्क भोजन तथा स्वल्पाहार वितरित किया जा रहा है। रविवार को आकाश सिंह राजपूत बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज पहुंचे जहां जैन समाज द्वारा भोजन वितरण कार्यक्रम की इस कड़ी में सहयोग प्रदान किया तथा जैन समाज द्वारा किए जा रहे इस कार्य की सराहना करते हुए सहयोग राशि प्रदान की ।

BSF Recruitment 2021: BSF में ऑफिसर बनने का सुनहरा अवसर,बिना एग्जाम सेलेक्शन

इस अवसर पर राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत के प्रतिनिधि के रूप में आकाश सिंह राजपूत, अनिल जैन नैनधरा, शुभम जैन जैसीनगर, देवेंद्र जैन, पुष्पेन्द् जैन, मोनू जैन, अनिल जैन, विजय जैन, रवेंद्र ठाकुर इत्यादि उपस्थित थे। सकल जैन दिगम्बर समाज की ओर से आयोजित इस भोजन वितरण कार्यक्रम के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल के तहत सोशल डिस्पेंसिंग का भी ख्याल रखा गया।

साइनस में लाभदायक हैं ये 4 योगा आसन, आप भी जरूर करें ट्राई