उपचुनाव से पहले सिंधिया की BJP में कैबिनेट मंत्री के तौर पर ताजपोशी?

भोपाल। मध्यप्रदेश की सियासत में ‘महाराज’ कहे जाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लगभग 13 महीने के बाद एक बार फिर सांसद होने का तमगा हासिल कर लिया है। पिछले साल मई में हुए लोकसभा चुनाव में अपनी पारंपरिक सीट गुना-शिवपुरी से हार का सामना करने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया अब राज्यसभा के रास्ते संसद पहुंच गए हैं।

[adsforwp id=”15966″]

मार्च में प्रस्तावित राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार गिराने और शिवराज सरकार बनाने में ट्रंप कार्ड बने थे।

सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के साथ ही उनके समर्थक 22 कांग्रेस विधायकों के अचानक से विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने और पाला बदलने से प्रदेश में तत्कालीन सत्तारूढ़ कमलनाथ सरकार देखते ही देखते अल्पमत में आई गई थी और फ्लोर पर विश्वास मत का सामना करने से पहले कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

JOB: खुद बने अपने BOSS पार्ट टाइम per hour कमाएं 140 रुपए

सियासी मैनेजमेंट में माहिर समझे जाने वाले कमलनाथ को पटखनी देने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया की नई संसदीय पारी बतौर राज्यसभा सांसद अब फिर शुरु हो गई है। साल 2002 में पिता के निधन के बाद पहली बार गुना से उपचुनाव में जीतने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया लगातार 4 बार लोकसभा सांसद चुने गए थे,

लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में अपने ही पूर्व साथी और भाजपा उम्मीदवार केपी यादव से बुरी तरह हार गए थे। 18 साल बाद ‘हाथ’ का साथ छोड़ने वाले सिंधिया पहली बार उच्च सदन (राज्यसभा) के सदस्य निर्वाचित हुए है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के राज्यसभा सांसद चुने जाने के साथ ही उनके सर्मथक विधायकों ने उनको मोदी सरकार में मंत्री बनाने की मांग शुरु कर दी है।

सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक रघुराज कंसना ने कहा कि सांसद बनने के बाद अब केंद्र में मंत्री भी बनेंगे, दरअसल मार्च में जब ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे तभी से इस बात की अटकलें सियासी गलियारों में चल रही हैं कि राहुल गांधी का साथ छोड़ने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया नरेंद्र मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनेंगे।

कोरोना संक्रमण के चलते जब मार्च में होने वाले राज्यसभा चुनाव टाल दिए गए और तो सिंधिया के मंत्री बनने का प्रस्ताव भी ठंडे बस्ते में चल गया है। अब जब राज्यसभा चुनाव हो चुके और सिंधिया भाजपा सांसद के तौर पर राज्यसभा पहुंच गए हैं तब इस बात की अटकलें भी तेज हो गई हैं कि वह जल्द ही मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री बनेंगे।

चीन के झूठ का पर्दाफाश, वुहान में हुई मौतों का USA वैज्ञानिकों ने किया खुलासा