अद्भुत: बिना चेहरे की पैदा हुई थी बच्ची, डॉक्टरों ने बचाने से किया मना,फिर हुआ ये चमत्कार

Baby birth

दक्षिणी अमेरिका देश ब्राजील से सामने आई है. जहां एक बच्चा का जन्म Baby birth ऐसी हालत में हुआ जिसे देखकर डॉक्टर भी हैरान रह गए. ये बच्ची बिना चेहरे के पैदा हुई थी. डॉक्टरों ने उसके बच जाने से इनकार कर दिया लेकिन फिर ऐसा चमत्कार हुआ

कहते हैं कि जिंदगी और मौत इंसान के हाथ में नहीं होती. भगवान चाहे तो मुर्दों को भी जिंदा कर दे और चलते फिरते किसी भी इंसान की जान ले ले. ऐसी आश्चर्य चकित कर देने वाली तमाम घटनाएं दुनियाभर में सामने आती रहती है.

ऐसी ही एक घटना दक्षिणी अमेरिका देश ब्राजील से सामने आई है. जहां एक बच्चा का जन्म Baby birth ऐसी हालत में हुआ जिसे देखकर डॉक्टर भी हैरान रह गए. ये बच्ची बिना चेहरे के पैदा हुई थी. डॉक्टरों ने उसके बच जाने से इनकार कर दिया लेकिन फिर ऐसा चमत्कार हुआ जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे.

इस बच्ची ने मेडिकल साइंस की भविष्‍यवाणी को गलत साबित कर दिया और जिंदा बच गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बच्‍ची के जन्‍म Baby birth के बाद डॉक्‍टरों ने कहा कि बच्ची कुछ ही घंटों की मेहमान है. डॉक्टरों की ये बात सुनकर बच्चे के मां-बाप के होश उड़ गए. उन्होंने सोचा कि डॉक्टर ने अगर कहा कि बच्ची जिंदा नहीं बचेगी तो पहले ही उसके अंतिम संस्कार का इंतजाम कर लिया जाए.

परिवार ने ये सोचकर बच्चे के अंतिम संस्कार करने का इंतजाम करना शुरु कर दिया. लेकिन तभी ऐसा चमत्कार हुआ जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता. बिना चेहरे वाली ये बच्ची बच गई और अब इसकी उम्र नौ साल हो चुकी है.

लाखों रुपये कमाने के लिए स्टार्ट करें ये बिजनेस, कभी कम नहीं होगी डिमांड, ऐसे करें इसे शुरू?

बता दें कि ब्राजील के बारा डी साओ फ्रांसिस्‍को की विटोरिया मार्चियोली का जन्म नौ साल पहले बेहद दुर्लभ स्थिति में हुआ था. विटोरिया मार्चियोली को ट्रेचर कॉलिन्स सिंड्रोम नाम की बीमारी थी. इस बीमारी से उनके चेहरे की 40 हड्डियां विकसित ही नहीं हो पाईं. बीमारी के चलते बच्‍ची की आंख, मुंह और नाक विकसित नहीं हुए थे.

जिससे उसे देखकर लगता था कि वह कुछ ही घंटों में मर जाएगी. डॉक्‍टरों ने कहा था कि बच्‍ची कुछ ही घंटों तक जीवित रह सकेगी. डॉक्‍टरों की बात सुनकर परिजन सदमे में थे. हालांकि डॉक्‍टरों की भविष्‍यवाणी को बच्‍ची ने गलत साबित कर दिया.

रूस में प्लेन क्रैश,दो हिस्सों में बंट गया एयरक्राफ्ट, कम से कम16 लोगों की मौत की आशंका

दो दिन बाद उसे एक विशेषज्ञ की देखरेख में दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया. अस्‍पताल में एक सप्‍ताह तक निगरानी रखने के बाद उसे परिवार की देखभाल के लिए छोड़ दिया गया. बच्‍ची धीरे-धीरे बड़ी होने लगी और और उसकी आंख, नाक और मुंह की आठ सर्जरी की गईं.

हाल ही में अमेरिका के टेक्सास के एक अस्पताल में उसकी एक अन्य सर्जरी की गई. बच्‍ची के माता-पिता रोनाल्डो और जोसिलीन लोगों की मदद से उसे नई जिंदगी देने में लगे हुए हैं. विटोरिया मार्चियोली नाम की इस बच्ची ने इसी महीने

नशे धुत्त Kinnar और 2 साथियों को थी पैसों की जरूरत, रियल इस्टेट कर्मचारी पर किया हमला

 

Source link