अखिल भारतीय मानव कल्याण ट्रस्ट के अधिकारी अपने क्षेत्रों में कोरोना मरीजों को दे रहे निशुल्क भोजन

अखिल भारतीय मानव कल्याण ट्रस्ट के पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मरीजों को निशुल्क खाना और पानी दे रहे हैं भोजन में दाल चावल सब्जी आदि दिया जा रहा है जिसका खर्चा संस्था के पदाधिकारी स्वयं उठा रहे हैं डॉ एमपी सिंह ने कहा कि यह स्थिति मानव सेवा करने की है।

ऐसी स्थिति में हमें अवसर नहीं ढूंढने चाहिए तथा दवाइयां और ऑक्सीजन पर कालाबाजारी नहीं करनी चाहिए डॉ एमपी सिंह ने कहा यदि आप पुण्य के भागीदार नहीं बने तो पछताना पड़ेगा अब यदि किसी भी रोगी को प्लाज्मा की जरूरत है तो बिल्कुल संकोच मत कीजिए,

और प्लाज्मा देकर रोगी की जान बचा कर भरपूर पुण्य कमाई है थैलेसीमिया के बच्चों को हर सप्ताह खून चढ़ता है यदि इस महामारी में आपने उनके लिए खून नहीं दिया तो भारी खामियाजा उठाना पड़ सकता है इसलिए अपनी सुरक्षा रखते हुए थैलेसीमिया के बच्चों की सुरक्षा का भी ध्यान रखें,

आपदा को अवसर बनाने वाले कभी सुखी नहीं रह सकते अनायास कमाया हुआ धन अनायास ही निकल जाता है इसलिए नर सेवा नारायण सेवा को ही आत्मसात करके जीवन सफल बनाया जा सकता है ऐसी सेवा का समय बड़े भाग्य से मिलता है यह सभी के नसीब में नहीं होता है।

जब भी कोई फोन सहायता के लिए आता है तो कभी संशय मत कीजिएगा जाति धर्म तथा अमीरी गरीबी से उठकर असहाय की सहायता करने के लिए हाथ बढ़ाइए गा जो पानी पिलाने लायक है उसे पानी पिलाना चाहिए जो खाना खिलाने के काबिल है।

उसे खाना खिलाना चाहिए जो समय दे सकता है उसे सेवा करनी चाहिए जो दवाई गोली की मदद कर सकता है उसे दवाई गोली और ऑक्सीजन उपलब्ध करा कर पुण्य का भागीदार बनना चाहिए व्यापारी करण से बचना चाहिए साथ और सहयोग के लिए आगे आना चाहिए।

इस नेक कार्य में हिरदेश कुमार, पंडित तारसेम वत्स , विमलेश देवी, रूपन देवी , बीरेंद्र सिंह , राहुल सिंह , नीरज कुमार , सौरव कुमार ,शुष्मिता भौमिक , नीलाम शर्मा ,
दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मेहरू निशा आदि सहयोग दे रहे हैं डॉ एमपी सिंह ने आवाहन किया कि आओ हम सब संकल्प लें,

कि सरकार के दिशा निर्देशों की पालना करते हुए तथा प्रशासन का साथ देते हुए कोरोना को भगाने में अपना योगदान प्रदान करेंगे तथा संक्रमित मरीजों की सहायता प्रदान करके मानवीय धर्म को निभाएंगे और सतर्कता से अपना बचाव करेंगे।

यह भी पढ़ें: पिता के पास डिग्री लेकिन इलाज कर रहा है बेटा,खेतों में पेड़ पर लटकाकर चढ़ाई जा रही है ड्रिप